मानव दुर्व्यापार के अपराधों की रोकथाम * हेतु जन जागरूकता कार्यक्रम विशेष अभियान चेतना का शुभारंभ दिनांक 26/09/ 2022 से 04/10 /2022 तक चलाया जाना है। इसी क्रम में जिले के पुलिस अधीक्षक महोदय श्री सुनील कुमार जैन के निर्देशन में, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक महोदय श्री मनोज केड़िया के मार्गदर्शन में, महिला थाना कटनी के द्वारा मानव दुर्व्यापार के अपराधों की रोक थाम हेतु जन जागरूकता अभियान का आयोजन किया गया कार्यक्रम के दौरान उक्त जानकारी देते हुए महिला थाना से निरीक्षक मंजू शर्मा व महिला थाना का समस्त स्टाफ ने मानव दुर्व्यापार के अपराधों की रोकथाम हेतु जन जागरूकता अभियान शासकीय उत्कृष्ट विद्यालय माधवनगर कटनी में किया।
क्या है मानव तस्करी- व्यक्ति को डरा कर, बलप्रयोग कर, दोषपूर्ण तरीके भर्ती करने,परिवहन करके शरण मे रखने, गैर कानूनी काम धंधे जैसे भीख मंगवाना, अंग व्यापार ,नशीली दवाओं का व्यापार व तस्करी करना, बंधुआ मजदूरी, घरेलू नौकरी, सर्कस में काम, अवैध रूप से विवाह करना, वेश्यावृत्ति, पोर्नोग्राफी, यौन शोषण, जबरन वेश्यावृत्ति करने की गतिविधि मानव तस्करी की श्रेणी में आती है। जिसमें अधिकता बच्चों एव महिलाओं की होती है कहीं जगह बच्चों का अपहरण कर उनको बंधुआ मजदूरी करना, देह व्यापार में लगाना एवं भीख मंगवाना आदि कामों में लगाकर उनका शोषण किया जाता है अगर कहीं भी यात्रा के दौरान या फिर किसी भी शहर में, फैक्ट्री में, जोख़िम भरे स्थान पर किसी भी जगह आपको ऐसा कोई बालक या फिर बालिका दिखाई दे तो अवश्य नजदीक थाने या डायल 100,181, महिला हेल्पलाइन 1090 एव 1098 चाइल्ड हेल्पलाइन नंबर पर बताएं। साथ ही सभी को वीडियो /फिल्म माध्यम से मानव तस्करी रोकथाम हेतु जागरूकता जानकारी साझा की एवं सुनहरे पंख विषयक वीडयो भी दिखाई महिला थाना से निरीक्षक मंजू शर्मा ने बताया कि मानव तस्करी को लेकर इस पूरे मामले में पीड़िता को न केवल शारीरिक बल्कि मानसिक प्रताड़ना भी झेलनी पड़ती है और इसमें बच्चे परेशान होकर नई बीमारी से संक्रमित हो जाता है एवं अपना उद्देश्य होना चाहिए कि ऐसे पीड़ित बालक बालिका को कहीं हम देखे तो तुरंत चाइल्ड लाइन 1098 पर कॉल कर इसकी जानकारी अवश्य दे उस बच्चे का सही पुनर्वास हो एवं बच्चों को उनका पूरा अधिकार मिले और इस तरह की अवैध गतिविधियों पर पूरी नजर रखी जानी चाहिए। जिससे कि बच्चों के साथ कुछ गलत घटनाएं ना हो। ये हम सभी की जिम्मेदारी है साथ ही बताया कि अगर यात्रा के दौरान और कहीं पर आपको असंरक्षित बालक बालिका दिखाई दे तो डायल 100 महिला हेल्पलाइन 1090 या चाइल्ड हेल्पलाइन 1098 पर अवश्य बताएं। इस कार्यक्रम में महिला थाना थाना स्टाफ एवं विद्यालय के छात्र-छात्राएं अध्यापक व बाल कल्याण समिती के सदस्य योगेश सिंह महिला सशक्तिकरण अधिकारी मनीष तिवारी, वनश्री कुरवेती, जन साहस के सदस्य, चाइल्ड हेल्प लाईन के सदस्य उपस्थित रहे ।